subscribe: Posts | Comments

Kitab Launches Shashi Tharoor’s Book “The Battle of Belonging” Literary Bigwigs – politicians Attend Online Event Hosted By Prabha Khaitan Foundation

0 comments
Kitab Launches Shashi Tharoor’s Book  “The Battle of Belonging”  Literary Bigwigs – politicians Attend Online Event Hosted By Prabha Khaitan Foundation

23 November 2020, Kolkata: Politician-author Shashi Tharoor’s latest book “The Battle of Belonging” was formally launched at the Prabha Khaitan Foundation’s signature event Kitab by Chief Guest Mr Hamid Ansari, former Vice-President of India, Farooque Abdullah, Chairman J&K National Conference, David Davidar, novelist and publisher, Pavan K Varma, former Rajya Sabha MP and diplomat, Makarand Paranjape, Director IIAS. Author Shashi Tharoor shared details of his inspiration for writing “The Battle of Belonging” and made a passionate plea to read this deeply-researched work.

The online event, organized by Prabha Khaitan Foundation in association with Aleph Book Company, was flagged off by Ms Apra Kuchhal of Ehsaas Women and moderated by journalist Karan Thapar. Guests from the country and abroad joined in at the web event for a stimulating discussion and critical appraisal of Shashi Tharoor’s 22nd book which delves into current social, political and cultural issues confronting India.

All the guests lauded Shashi Tharoor’s latest book and its potential to trigger serious debate on many issues pertaining to India but did not shy away from contesting some of the core concepts like nationalism, patriotism, civic nationalism, the idea of India and others elaborated in the book.

Mr Hamid Ansari opened up the lively discussions saying, “This is a passionate plea for an idea of India that was taken for granted and is now seemingly endangered by ideologies that seek to segment it on imagined criteria of us and them. Shashi Tharoor has dilated on the essential ingredients of Indianness as understood in the freedom struggle and in the subsequent seven decades of the Republic of India. I found the essays on identity and patriotism particularly enlightening. The book’s analysis is comprehensive, yet it stops short of suggesting a doable recipe for correcting the shortfalls.”

David Davidar of Aleph Book Company, publisher of the book, said, “I hope every Indian will read the book. It is a remarkably learned, even-handed and lucid study of foundational ideas and concepts and national values. This book falls in the rarest-of-rare `Indispensable’ category – books you cannot do without. I hope people will be reading and discussing “The Battle of Belonging” fifty years from now.”

Describing the reasons for penning this book, Shashi Tharoor said, “This book is the culmination of a lifetime’s thoughts, readings and arguments on issues of nationalism and patriotism which are not just theoretical or academic but intensely personal too. The book was prompted by the rise of a fundamental challenge to the very essence of Indian nationalism. The book offers one observer’s note towards an understanding of nationalism in the world against specificity in India today. India’s own anti-colonial nationalism converted itself into a `civic nationalism’ encoded in a democratic Constitution and then the conflict over contemporary attempts to convert that into a religious-cultural nationalism. That is the battle of belonging to India and having India belong to you. Those are the principal themes in the book.”

The author feels the nationalism being promoted in India today is a totalising vision that excludes citizens, those who do not subscribe to it, on the basis of identity or immutable markers like ethnicity, religion, language and so on. In contrast, civic nationalism, he thinks, is anchored in institutions and constitutions. Civic nationalism derives from the consent of citizens to participate in a free and democratic society and best safeguards individual rights and hence must be promoted and protected above all.

In his book, Tharoor says patriotism and nationalism are different. A patriot is ready to die for his country; a nationalist is ready to kill for his country. Some of the live panellists at Kitab did not agree with this distinction with Pavan K Varma calling it an “intellectual quibble”.

Responding to a question from Karan Thapar, Farooque Abdullah said, “Today we are being divided on religion, caste, creed and language. Are we making a strong India or killing the very essence of it! Shashi has done a great job writing this book. I must tell you one thing, tyrants may come and go but nations continue to survive. We have to fight against forces that divide us on the basis of religion, caste creed and language.”

Paranjape Marakand, poet and novelist, disagreeing with the author on many topics, said, “The idea of India is highly and hotly contested today and the Nehruvian consensus with which many of us grew up has now probably crumbled to dust. This is one of Shashi’s books and should open up serious debates but I don’t think India is a country which practices `civic nationalism’. I think ours is `civilisational nationalism’ and is always plural. Shashi has considered Indian Constitution almost like a sacred text which cant be changed. But it has been changed a 103 times. The 42ndAmendment, pushed through during the Emergency, Sovereign Democratic Republic of India suddenly became a Socialist and Secular in addition. Who believes in common property. We are not socialists. We are living a lie, a hypocrisy. Let us not kid ourselves as all our politics are based on caste calculations, linguistic calculus, religion and caste.”

Pavan K Varma called it an important book in which Shashi has invested his cerebral energy to project and propagate a point of view which is very relevant. On a dissenting note, Mr Varma said, “All religious extremes are bad, including Islamic fundamentalism, which I notice you don’t speak about in your book at all. And if there are sanctuaries for it in any parts of India, I think, they should equally be the focus of your attack so that the book does not appear to be one-sided. I really cannot understand what is a `civic nationalism’ for a country which goes back to the dawn of time and whose civilisational legacy is something we find very difficult to ignore and contributed to any idea of India that we may have recently formed. Why do we need to devise this sanitised notion called civil nationalism which privileges a recent Constitution as it should be but posits it against any unwarranted cultural infusions as though that was the intention of the constitution makers.”

Pavan K Varma highlighted the distortions of secularism in practice in India and the backlash. He said, “There are many Indians today who are taking elements of what constitutes the idea of India and examining them again by questioning – Why did Mahatma Gandhi support the Khilafat movement? Why did Nehru write to Dr Rajendra Prasad not to attend the inauguration of the renovated Somnath temple? Why were personal laws of only Hindus changed? Why was the Shah Bano case judgement overruled by an ordinance. These are questions we are familiar with. We are not excavating the past for creating present day acrimony. For a long time these questions were never raised and so the idea of India remained uncontested. They are being raised now and we need to answer them. Mahatma Gandhi’s intentions were always good but we need to see what its consequences were.”

Kitab is a signature event of Prabha Khaitan Foundation of Kolkata conceptualised by Mr Sundeep Bhutoria which provides a forum for writers, poets, intellectuals and thinkers to launch their books and share their thoughts and views on varied topics leading to thought-provoking and stimulating intellectual discourses and discussions.


Kitab Launches Shashi Tharoor’s Book “The Battle of Belonging” Literary Bigwigs – politicians Attend Online Event Hosted By Prabha Khaitan Foundation

0 comments
Kitab Launches Shashi Tharoor’s Book  “The Battle of Belonging”  Literary Bigwigs – politicians Attend Online Event Hosted By Prabha Khaitan Foundation

प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा शशि थरूर की नयी पुस्तक “द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग” को किया गया लॉन्च

23 नवंबर 2020, कोलकाता: शशि थरूर की नयी पुस्तक “द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग” को ‘‘प्रभा खेतान फाउंडेशन’’ की तरफ से ऑनलाइन सत्र ‘किताब’ के समारोह में लॉन्च किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री हामिद अंसारी (देश के पूर्व उपराष्ट्रपति), फारूक अब्दुल्ला (अध्यक्ष, जेएंडके नेशनल कॉन्फ्रेंस), डेविड डेविडर (उपन्यासकार और प्रकाशक), पवन के वर्मा (पूर्व राज्यसभा सांसद और राजनयिक), मकरंद परांजपे (निर्देशक), लेखक शशि थरूर ने इस समारोह में “द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग” लिखने के लिए अपनी प्रेरणा को विस्तृत रूप से समारोह में शामिल सम्मानीय अतिथियों के समक्ष साझा किया। इसके साथ ही उन्होंने इस गहन शोध कार्य को पढ़ने के लिए किताब से जुड़ी कई अहम जानकारी दी।

एलेफ बुक कंपनी के संयुक्त तत्वाधान में प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस ऑनलाइन कार्यक्रम में एहसास की तरफ से महिला सुश्री अप्रा कुच्छल ने इसे लांन्च किया और पत्रकार करण थापर द्वारा पूरे कार्यक्रम को संचालित किया गया। इस वेब इवेंट में भारत के वर्तमान सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक मुद्दों पर प्रकाश डालती शशि थरूर की 22 वीं पुस्तक के बारे में चर्चा और आलोचनात्मक मूल्यांकन के लिए देश -विदेश से बड़ी संख्या में अतिथि शामिल हुए।

सभी मेहमानों ने शशि थरूर की नवीनतम पुस्तक और भारत से संबंधित कई मुद्दों पर गंभीर बहस को गति देने को लेकर इस पुस्तक की काफी सराहना की, क्यों कि इस पुस्तक के जरिये वे कुछ मूल अवधारणाओं जैसे राष्ट्रवाद, देशभक्ति, नागरिक राष्ट्रवाद, भारत के विचार और अन्य लोगों के बारे में विस्तार से बताने से वे नहीं कतराए।

श्री हामिद अंसारी ने जीवंत चर्चाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा: इसमें एकग्र भारत के विचार के लिए एक भावुक दलील को शामिल किया गया है, इसमें पहले की उन विचारधाराओं जो अब लुप्तप्राय है इसके जरिये कल्पनाशील मानदंडों पर प्रकाश डालने की कोशिश की गयी हैं। शशि थरूर ने इस पुस्तक में स्वतंत्रता संग्राम और भारतीय गणतंत्र के बाद के सात दशकों में समझे गए भारतीयता के आवश्यक तत्वों पर पाठकों का ध्यान आकर्षित कराने की कोशिश की है। मुझे इसमें देशभक्ति पर निबंध विशेष रूप से ज्ञानवर्धक लगे। पुस्तक का विश्लेषण व्यापक है।

किताब के प्रकाशक एलेफ बुक कंपनी के डेविड डेविडर ने कहा: मुझे उम्मीद है कि हर भारतीय इस किताब को अवश्य पढ़ेगा। इसमें एक उल्लेखनीय रूप से सीखा भी दी गयी है, यहां तक ​​कि इसमें मूलभूत विचारों और अवधारणाओं के साथ राष्ट्रीय मूल्यों के अध्ययन को शामिल किया गया है। यह पुस्तक दुर्लभतम-दुर्लभ ‘अपरिहार्य’ श्रेणी में आती है – ऐसी पुस्तकें जिनके बिना आप काम नहीं कर सकते। मुझे उम्मीद है कि लोग इस पुस्तक को पढ़ने के बाद अब से “पचास साल की लड़ाई” पर चर्चा अवश्य करेंगे।

शशि थरूर ने इस पुस्तक को कलमबद्ध करने से जुड़े कारणों के बारे में बताते हुए कहा:  इस पुस्तक में राष्ट्रवाद और देशभक्ति के मुद्दों पर जीवनभर के विचारों, पठन और तर्कों की पराकाष्ठा को शामिल किया गया है जो केवल सैद्धांतिक या अकादमिक नहीं हैं, बल्कि गहन रूप से व्यक्तिगत भी हैं। पुस्तक को भारतीय राष्ट्रवाद के मूल तत्व के लिए एक बुनियादी चुनौती के उदय से प्रेरित किया गया था। यह पुस्तक आज के भारत में विशिष्टता के खिलाफ दुनिया में राष्ट्रीयता की समझ की ओर एक पर्यवेक्षक का नोट प्रस्तुत करती है। भारत के अपने उपनिवेशवाद-विरोधी राष्ट्रवाद ने एक लोकतांत्रिक संविधान में खुद को `नागरिक राष्ट्रवाद ‘ में बदल दिया और फिर इसे अब धार्मिक-सांस्कृतिक राष्ट्रवाद में बदलने के लिए संघर्ष किया जा रहा है। इस पुस्तक में प्रमुख विषय भारत से संबंधित होने और भारत का आपके साथ होने की लड़ाई को बनाया गया है।

 

लेखक अपनी लेखनी के जरिये यह बताने की कोशिश किये हैं कि आज भारत में जिस राष्ट्रवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है, वह एक ऐसी समग्र दृष्टि है। नागरिक राष्ट्रवाद एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक समाज में भाग लेने के लिए नागरिकों की सहमति से उत्पन्न होता है और लोगों के व्यक्तिगत अधिकारों को सुरक्षित रखता है और इसलिए इसे सभी के ऊपर प्रचारित और इसे संरक्षित किया जाना चाहिए।

थरूर अपनी किताब में कहते हैं कि देशभक्ति और राष्ट्रवाद अलग हैं। एक देशभक्त अपने देश के लिए मरने को तैयार है जबकि एक राष्ट्रवादी अपने देश के लिए मारने को तैयार है। किताब वेब कार्यक्रम में शामिल कुछ लाइव पैनलिस्ट इस अंतर से सहमत नहीं थे, वे इसे “बौद्धिक उत्थान” कहते रहे हैं।

करण थापर के एक सवाल के जवाब में, फारूक अब्दुल्ला ने कहा: आज हम धर्म, जाति, पंथ और भाषा पर विभाजित हो रहे हैं। क्या हम एक मजबूत भारत बना रहे हैं या इसके बहुत सार को मार रहे हैं! शशि ने इस किताब को लिखने में बहुत अच्छा काम किया है। मैं आपको एक बात बताना चाहता हूं, अत्याचारी आ सकते हैं और जा सकते हैं लेकिन राष्ट्र जीवित रहते हैं। हमें ऐसी ताकतों से लड़ना होगा जो हमें धर्म, जाति पंथ और भाषा के आधार पर विभाजित करने का प्रयास करते हैं।

कवि और उपन्यासकार परांजपे मारकंड ने कई विषयों पर लेखक से असहमति जताते हुए कहा: आज बहुत ही गर्मजोशी से नये भारत के लिए लड़ा जा रहा है। वहीं काफी पहले से चली आ रही नेहरूवादी आम सहमति जिसके साथ हम में से कई बड़े हुए हैं, अब शायद धूल से भर गए हैं, यह शशि की अन्य किताबों में अलग है और इस पर गंभीर बहस होनी चाहिए, लेकिन मुझे नहीं लगता कि भारत एक ऐसा देश है जो `नागरिक राष्ट्रवाद ‘का पालन करता है। मुझे लगता है कि यह हमारा सभ्यतावादी राष्ट्रवाद ’है और यह हमेशा बहुवचन है। शशि ने भारतीय संविधान को लगभग एक पवित्र ग्रंथ की तरह माना है, जिसे परिवर्तित नहीं किया जा सकता, लेकिन इसे 103 बार बदला गया है। 42 वां संशोधन, आपातकाल के दौरान धकेल दिया गया, भारत का संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य अचानक एक समाजवादी और धर्मनिरपेक्ष बन गया। जो आम संपत्ति में विश्वास करता है। हम समाजवादी नहीं हैं। हम अभी एक झूठ, एक पाखंड को जी रहे हैं। आइए हम खुद को किन्नर न बनाएं क्योंकि हमारी सारी राजनीति जातिगत गणना, भाषाई गणना, धर्म और जाति पर आधारित है।

पवन के वर्मा ने इसे एक महत्वपूर्ण पुस्तक पर कहा: शशि ने अपनी मस्तिष्क ऊर्जा को को इस किताब में निवेश किया और इसके जरिये एक दृष्टिकोण पेश किया, जो बहुत प्रासंगिक है। हमारा मानना है कि सभी धार्मिक चरम बुरे हैं, जिनमें इस्लामिक कट्टरवाद भी शामिल है, मैं वास्तव में यह नहीं समझ सकता कि एक देश के लिए एक ‘नागरिक राष्ट्रवाद’ क्या है जो समय की सुबह तक वापस चला जाता है और जिसकी सभ्यता की विरासत कुछ ऐसी है जिसे हमें अनदेखा करना और भारत के किसी भी विचार के लिए योगदान करना बहुत मुश्किल है जिसे हमने हाल ही में बनाया है। हमे किसी भी गैर-सांस्कृतिक बदलाव के खिलाफ विरोध के लिए हमेशा प्रस्तुत रहना चाहिए । श्री पवन के वर्मा ने भारत में धर्मनिरपेक्षता की विकृतियों और बैकलैश पर प्रकाश डाला। हेसैड ने कहा, आज कई भारतीय हैं जो भारत के विचार का निर्माण करने और उन्हें फिर से जांचने की बात सोच रहे हैं – महात्मा गांधी ने खिलाफत आंदोलन का समर्थन क्यों किया? नेहरू ने डॉ. राजेंद्र प्रसाद को पुनर्निर्मित सोमनाथ मंदिर के उद्घाटन में भाग लेने के लिए क्यों नहीं लिखा? केवल हिंदुओं के व्यक्तिगत कानूनों को क्यों बदला गया? अध्यादेश द्वारा शाह बानो केस का फैसला क्यों सुनाया गया। ये ऐसे प्रश्न हैं जिनसे हम परिचित हैं। हम आज के समय में वैमनस्य पैदा करने के लिए अतीत को खंगाल नहीं कर रहे हैं। लंबे समय तक ये सवाल कभी नहीं उठाये गये और इसलिए भारत का विचार निर्विरोध रहा। उन्हें अभी उठाया जा रहा है और हमें उनका जवाब देने की जरूरत है। हमारा मानना है कि हमे यह भी सोचना चाहिये कि महात्मा गांधी के इरादे हमेशा अच्छे थे लेकिन हमें यह देखने की जरूरत है कि इसके परिणाम क्या थे।

‘किताब’ कोलकाता के प्रभा खेतान फाउंडेशन का एक ऑनलाइन सत्र कार्यक्रम है, जिसे कोलकाता के सुप्रसिद्ध समाजसेवी संदीप भूतोरिया द्वारा परिकल्पित किया गया है, जो लेखकों, कवियों, बुद्धिजीवियों और विचारकों को अपनी पुस्तकों को लॉन्च करने और विभिन्न विषयों पर अपने विचारों को साझा करने और इसपर बौद्धिक सुझाव को प्रोत्साहित करने के लिए एक चर्चा मंच प्रदान करता है।


International Men’s Day Celebrated With Glitz – Glamour & Glory

0 comments
International  Men’s Day Celebrated  With Glitz – Glamour & Glory

Unified Brainz Celebrated the Success of Men leading by example with Glitz, Glamour & Glory on the occasion of International Men’s Day 2020.

Today on this auspicious day of International Men’s Day which is an opportunity for people everywhere of goodwill to appreciate and celebrate the men in their lives and the contribution made in the society for the greater good of all.

Men often surrender at work and with his family roles for their communities and society. We need to do away with the notion that men don’t cry and rather should encourage them to express their emotions freely being vocal. We need to build a space where men can talk about what they are suffering from, without being judged for being sensitive.

On this Great occasion, the world witnessed the most awaited event “Men Leaders to look Upto in 2020”. A glorious ceremony saw the presence of some most sought after lineup of men leaders who were featured from different walks of life sharing passion journey, which made them men of substance based on nomination and selection through a rigorous evaluation process. The event witnessed the online presence of friends from Bollywood & television industry, international supermodels, diplomats, socialites, business owners, entrepreneurs, media icons & industry leaders along with global subscriber base of Passion Vista. The event had seen wonderful engagement from over 26 countries across the globe as a platform where men leaders joined hands to network and share their opinions about the importance of better health for men and boys.

The Unveiling of this Special Collector’s Edition Magazine “Men leaders to Look Up to in 2020” was organized during an online event through Facebook & YouTube live addressing to the global audience. The magazine was unveiled by Dr GD Singh, Founder & President of Unified Brainz Group & Editor in Chief for Passion Vista Magazine along with the presence of Guest Editor Mr Mahendrasinh Jadeja from London who is an International Business Entrepreneur & Philanthropist.

The Editorial Board of Passion Vista & Unified Brainz Group in association with our Evaluation Partner – CIAC Global & International Chamber partner Asian African Chamber of Commerce & Industry, announced the inclusion of these 25 magnificent men, Aakash Goswami, Adel Singh, Bhavin Patel, Dr Achyut Dani, Dr Anil Kumar Misra, Dr Mustafa Saasa, Dr Sandeep Sekhri, Dr D Panduranga Rao, Dr Patrick Businge, Dr. Ricardo Saavedra Hidalgo, Freddy Daruwala, Gaurav Bargujar, H.E. Fabrice Houmard, Hemen Joshi, Jagdish Shekhar Naik, James Pulham, Lion Dr Kiron, Lord Rami Ranger CBE, Mangesh Amale, Mohammad Ismail Ghazanfar, Peter Cox, Pratik Gandhi, Rachit Agrawal, Rannvijay Singh, Rohan Mehta from various domains in this Special Collector’s Edition.

The editorial board along with our evaluation partner had observed and marked the profiles of men leaders as a brand of high repute and congratulated all men leaders for this achievement to be recommended for this special featured advertorial brand story coverage with the cover page.

This event was conceptualized and produced by Unified Brainz Group, a leading media & publishing house powered by Passion Vista –a Luxury, Lifestyle & Business Magazine in association with International Chamber partner Asian-African Chamber of Commerce & Industry (AACCI). Jointly with CIAC Global as Evaluation Partner, Future Billionaire Network International (FBNI) as supported by partner & World Peace & Diplomacy Organisation (WPDO) as Philanthropic partner along with Gift Hamper Partner – Whiskers (Luxury Men’s Grooming Brand) & Digital media partner Ten News (India), Online Media partner Awesome TV (USA), and PR Partner FAME Media and TVM Communication.


International Men’s Day Celebrated With Glitz – Glamour & Glory

0 comments
International  Men’s Day Celebrated  With Glitz – Glamour & Glory

Unified Brainz Celebrated the Success of Men leading by example with Glitz, Glamour & Glory on the occasion of International Men’s Day 2020.

Today on this auspicious day of International Men’s Day which is an opportunity for people everywhere of goodwill to appreciate and celebrate the men in their lives and the contribution made in the society for the greater good of all.

Men often surrender at work and with his family roles for their communities and society. We need to do away with the notion that men don’t cry and rather should encourage them to express their emotions freely being vocal. We need to build a space where men can talk about what they are suffering from, without being judged for being sensitive.

On this Great occasion, the world witnessed the most awaited event “Men Leaders to look Upto in 2020”. A glorious ceremony saw the presence of some most sought after lineup of men leaders who were featured from different walks of life sharing passion journey, which made them men of substance based on nomination and selection through a rigorous evaluation process. The event witnessed the online presence of friends from Bollywood & television industry, international supermodels, diplomats, socialites, business owners, entrepreneurs, media icons & industry leaders along with global subscriber base of Passion Vista. The event had seen wonderful engagement from over 26 countries across the globe as a platform where men leaders joined hands to network and share their opinions about the importance of better health for men and boys.

The Unveiling of this Special Collector’s Edition Magazine “Men leaders to Look Up to in 2020” was organized during an online event through Facebook & YouTube live addressing to the global audience. The magazine was unveiled by Dr GD Singh, Founder & President of Unified Brainz Group & Editor in Chief for Passion Vista Magazine along with the presence of Guest Editor Mr Mahendrasinh Jadeja from London who is an International Business Entrepreneur & Philanthropist.

The Editorial Board of Passion Vista & Unified Brainz Group in association with our Evaluation Partner – CIAC Global & International Chamber partner Asian African Chamber of Commerce & Industry, announced the inclusion of these 25 magnificent men, Aakash Goswami, Adel Singh, Bhavin Patel, Dr Achyut Dani, Dr Anil Kumar Misra, Dr Mustafa Saasa, Dr Sandeep Sekhri, Dr D Panduranga Rao, Dr Patrick Businge, Dr. Ricardo Saavedra Hidalgo, Freddy Daruwala, Gaurav Bargujar, H.E. Fabrice Houmard, Hemen Joshi, Jagdish Shekhar Naik, James Pulham, Lion Dr Kiron, Lord Rami Ranger CBE, Mangesh Amale, Mohammad Ismail Ghazanfar, Peter Cox, Pratik Gandhi, Rachit Agrawal, Rannvijay Singh, Rohan Mehta from various domains in this Special Collector’s Edition.

The editorial board along with our evaluation partner had observed and marked the profiles of men leaders as a brand of high repute and congratulated all men leaders for this achievement to be recommended for this special featured advertorial brand story coverage with the cover page.

This event was conceptualized and produced by Unified Brainz Group, a leading media & publishing house powered by Passion Vista –a Luxury, Lifestyle & Business Magazine in association with International Chamber partner Asian-African Chamber of Commerce & Industry (AACCI). Jointly with CIAC Global as Evaluation Partner, Future Billionaire Network International (FBNI) as supported by partner & World Peace & Diplomacy Organisation (WPDO) as Philanthropic partner along with Gift Hamper Partner – Whiskers (Luxury Men’s Grooming Brand) & Digital media partner Ten News (India), Online Media partner Awesome TV (USA), and PR Partner FAME Media and TVM Communication.


International Men’s Day Celebrated With Glitz – Glamour And Glory

0 comments
International Men’s Day Celebrated With Glitz – Glamour And Glory

Unified Brainz Celebrated the Success of Men leading by example with Glitz, Glamour & Glory on the occasion of International Men’s Day 2020.

Today on this auspicious day of International Men’s Day which is an opportunity for people everywhere of goodwill to appreciate and celebrate the men in their lives and the contribution made in the society for the greater good of all.

Men often surrender at work and with his family roles for their communities and society. We need to do away with the notion that men don’t cry and rather should encourage them to express their emotions freely being vocal. We need to build a space where men can talk about what they are suffering from, without being judged for being sensitive.

On this Great occasion, the world witnessed the most awaited event “Men Leaders to look Upto in 2020”. A glorious ceremony saw the presence of some most sought after lineup of men leaders who were featured from different walks of life sharing passion journey, which made them men of substance based on nomination and selection through a rigorous evaluation process. The event witnessed the online presence of friends from Bollywood & television industry, international supermodels, diplomats, socialites, business owners, entrepreneurs, media icons & industry leaders along with global subscriber base of Passion Vista. The event had seen wonderful engagement from over 26 countries across the globe as a platform where men leaders joined hands to network and share their opinions about the importance of better health for men and boys.

The Unveiling of this Special Collector’s Edition Magazine “Men leaders to Look Up to in 2020” was organized during an online event through Facebook & YouTube live addressing to the global audience. The magazine was unveiled by Dr GD Singh, Founder & President of Unified Brainz Group & Editor in Chief for Passion Vista Magazine along with the presence of Guest Editor Mr Mahendrasinh Jadeja from London who is an International Business Entrepreneur & Philanthropist.

The Editorial Board of Passion Vista & Unified Brainz Group in association with our Evaluation Partner – CIAC Global & International Chamber partner Asian African Chamber of Commerce & Industry, announced the inclusion of these 25 magnificent men, Aakash Goswami, Adel Singh, Bhavin Patel, Dr Achyut Dani, Dr Anil Kumar Misra, Dr Mustafa Saasa, Dr Sandeep Sekhri, Dr D Panduranga Rao, Dr Patrick  Businge, Dr. Ricardo Saavedra Hidalgo, Freddy Daruwala, Gaurav Bargujar, H.E. Fabrice Houmard, Hemen Joshi, Jagdish Shekhar Naik, James Pulham, Lion Dr Kiron, Lord Rami Ranger CBE, Mangesh Amale, Mohammad Ismail Ghazanfar, Peter Cox, Pratik Gandhi, Rachit Agrawal, Rannvijay Singh, Rohan Mehta from various domains in this Special Collector’s Edition.

The editorial board along with our evaluation partner had observed and marked the profiles of men leaders as a brand of high repute and congratulated all men leaders for this achievement to be recommended for this special featured advertorial brand story coverage with the cover page.

This event was conceptualized and produced by Unified Brainz Group, a leading media & publishing house powered by Passion Vista –a Luxury, Lifestyle & Business Magazine in association with International Chamber partner Asian-African Chamber of Commerce & Industry (AACCI). Jointly with CIAC Global as Evaluation Partner, Future Billionaire Network International (FBNI) as supported by partner & World Peace & Diplomacy Organisation (WPDO) as Philanthropic partner along with Gift Hamper Partner – Whiskers (Luxury Men’s Grooming Brand) & Digital media partner Ten News (India), Online Media partner Awesome TV (USA), and PR Partner FAME Media and TVM Communication.


Amisha Patel Brand Ambassador Of Ahuja Agarbatti

0 comments
Amisha Patel Brand Ambassador Of Ahuja Agarbatti

Recently Amisha Patel (Kaho Na Pyar Hai fame), shot for Ahuja Agarbatti, as She is Brand Ambassador of it. This commercial ad shoot was done recently,at Future Studio, Goregaon East.

Amisha said “After a long period of lockdown due to Covid-19, first time shooting for this commercial advt, with all precautions, and I feel this is very auspicious for me, as it is Diwali time, we need good brand of agarbatti”.

Ad film was directed by Rakesh Patel with Dop by Jeet Bhadauria.Mohan Ahuja is Managing Director & Amit Ahuja is Director of Ahuja Agarbatti.

—-Wasim Siddique (Fame Media)

   

अमीषा पटेल बनी “आहूजा अगरबत्ती” की ब्राण्ड अम्बेस्डर।

हाल ही में फ़िल्म ‘कहो ना प्यार है’ कि चर्चित अभिनेत्री अमीषा पटेल, ने आहूजा अगरबत्ती के कमर्शियल ऎड के लिए शूट किया, वे इसकी ब्रांड एम्बेसडर भी हैं। हाल ही में इसकी शूटिंग गोरेगांव स्तिथ फ्यूचर स्टूडियो में सम्पन्न हुई।

अमीषा ने बताया कि कोरोना की वजह से लंबे समय तक लॉक डाउन के बाद, पहली बार इस विज्ञापन के लिए पूरे एहतियात के साथ इसकी शूटिंग की गई, वो भी दीवाली के शुभ अवसर पर।

इस विज्ञापन फ़िल्म के निर्देशक राकेश पटेल हैं व छायांकन जीत भदूरिया का है।

मोहन आहूजा इस कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं व अमित आहूजा निर्देशक हैं।


Amisha Patel Brand Ambassador Of Ahuja Agarbatti

0 comments
Amisha Patel Brand Ambassador Of Ahuja Agarbatti

Recently Amisha Patel (Kaho Na Pyar Hai fame), shot for Ahuja Agarbatti, as She is Brand Ambassador of it. This commercial ad shoot was done recently,at Future Studio, Goregaon East.

Amisha said “After a long period of lockdown due to Covid-19, first time shooting for this commercial advt, with all precautions, and I feel this is very auspicious for me, as it is Diwali time, we need good brand of agarbatti”.

Ad film was directed by Rakesh Patel with Dop by Jeet Bhadauria.Mohan Ahuja is Managing Director & Amit Ahuja is Director of Ahuja Agarbatti.

—-Wasim Siddique (Fame Media)

      

अमीषा पटेल बनी “आहूजा अगरबत्ती” की ब्राण्ड अम्बेस्डर।

हाल ही में फ़िल्म ‘कहो ना प्यार है’ कि चर्चित अभिनेत्री अमीषा पटेल, ने आहूजा अगरबत्ती के कमर्शियल ऎड के लिए शूट किया, वे इसकी ब्रांड एम्बेसडर भी हैं। हाल ही में इसकी शूटिंग गोरेगांव स्तिथ फ्यूचर स्टूडियो में सम्पन्न हुई।

अमीषा ने बताया कि कोरोना की वजह से लंबे समय तक लॉक डाउन के बाद, पहली बार इस विज्ञापन के लिए पूरे एहतियात के साथ इसकी शूटिंग की गई, वो भी दीवाली के शुभ अवसर पर।

इस विज्ञापन फ़िल्म के निर्देशक राकेश पटेल हैं व छायांकन जीत भदूरिया का है।

मोहन आहूजा इस कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं व अमित आहूजा निर्देशक हैं।


Amazing Ambrosia Gifts 1000 Ltr Amazing Hygieia To MCGM As mark Of Respect

0 comments
Amazing Ambrosia Gifts 1000 Ltr Amazing Hygieia To  MCGM As mark Of Respect

Seeking better ways of sanitization with lowest toxicity and least bio burden, Amazing Ambrosia Pvt Ltd (amazingambrosia.com), India’s First Water Technology Platform, founded by veteran water technologist Dr BK Sharma, son Sidharth Sharma, along with plastic industries doyen Mahendra N Patel, and Rahul C Mehta of MentorCap, has decided to combat India’s water and sanitation problems by identifying world class technologies, adapting, innovating and manufacturing them locally to have a transformative impact on India.

Their world class products, Amazing Hygieia and HygieiaDent are winners of the Economic Times Industry Leader Awards for Pathbreaking Technology resulting in Exemplary Contribution to Society.

Recently, Amazing Ambrosia has gifted 1000 litres of Amazing Hygieia to the MCGM for aiding sanitisation of the city. “The MCGM personnel work tirelessly through the pandemic. It is payback time. This is just the beginning,” avers Sidharth Sharma.
Amazing Hygieia is water that disinfects, heals, sanitizes, is effective in disease prevention and maintaining the potential bio loads as low as possible. It assures superior disinfection and sterilisation, is available in a convenient powder form in a 3.2 gm sachet to give up to 10 litres of disinfectant, is 100 per cent nontoxic, non-hazardous and food contact safe, non-alcohol based, non-inflammable, safe for eyes and skin and 100% safe when inhaled.

(Together, we heal… Sidharth Sharma, Director, Amazing Ambrosia Pvt Ltd handing over Amazing Hyigiea to Vishvas Mote, MCGM Asst Commissioner K West Ward)


Amazing Hygieia is the only stable EO water available in pH of 5.5 to 6.5 with zero chlorine gasification. Electrolyzed oxidising water is approved and certified by the Ministry of Health, Japan as a food contact product as well as the only product safe for aerial disinfection permitted by INMAS DRDO, USA FDA, US CDC and US EPA.

– For Further Details Contact :

Naarad PR & Image Strategists

Mobile :  9820535230  –   800 747 6464


Amazing Ambrosia Gifts 1000 Ltr Amazing Hygieia To MCGM As mark Of Respect

0 comments
Amazing Ambrosia Gifts 1000 Ltr Amazing Hygieia To  MCGM As mark Of Respect

Seeking better ways of sanitization with lowest toxicity and least bio burden, Amazing Ambrosia Pvt Ltd (amazingambrosia.com), India’s First Water Technology Platform, founded by veteran water technologist Dr BK Sharma, son Sidharth Sharma, along with plastic industries doyen Mahendra N Patel, and Rahul C Mehta of MentorCap, has decided to combat India’s water and sanitation problems by identifying world class technologies, adapting, innovating and manufacturing them locally to have a transformative impact on India.

Their world class products, Amazing Hygieia and HygieiaDent are winners of the Economic Times Industry Leader Awards for Pathbreaking Technology resulting in Exemplary Contribution to Society.

Recently, Amazing Ambrosia has gifted 1000 litres of Amazing Hygieia to the MCGM for aiding sanitisation of the city. “The MCGM personnel work tirelessly through the pandemic. It is payback time. This is just the beginning,” avers Sidharth Sharma.
Amazing Hygieia is water that disinfects, heals, sanitizes, is effective in disease prevention and maintaining the potential bio loads as low as possible. It assures superior disinfection and sterilisation, is available in a convenient powder form in a 3.2 gm sachet to give up to 10 litres of disinfectant, is 100 per cent nontoxic, non-hazardous and food contact safe, non-alcohol based, non-inflammable, safe for eyes and skin and 100% safe when inhaled.

(Together, we heal… Sidharth Sharma, Director, Amazing Ambrosia Pvt Ltd handing over Amazing Hyigiea to Vishvas Mote, MCGM Asst Commissioner K West Ward)


Amazing Hygieia is the only stable EO water available in pH of 5.5 to 6.5 with zero chlorine gasification. Electrolyzed oxidising water is approved and certified by the Ministry of Health, Japan as a food contact product as well as the only product safe for aerial disinfection permitted by INMAS DRDO, USA FDA, US CDC and US EPA.

– For Further Details Contact :

Naarad PR & Image Strategists

Mobile :  9820535230  –   800 747 6464


Director Kumar Saurav Sinha has teamed up with British and Indian actors to shoot Chhath Puja music video in London

0 comments
Director Kumar Saurav Sinha has teamed up with British and Indian actors to shoot Chhath Puja music video in London

लंदन में छठ पूजा

ब्रिटिश और इंडियन कलाकरों को लेकर बना छठ गीत, 15 नवम्बर को यशी फिल्म्स से रिलीज़ होगा

लोक आस्था का महापर्व छठ की महिमा इस बार सात समुंदर पार ब्रिटेन तक पहुंच गई है। इसलिए इस बार छठी मईया को समर्पित निर्देशक सह यशी फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड के कंटेंट हेड कुमार सौरव सिन्हा का आने वाला नया छठ गीत इस साल का सबसे महंगा गाना होगा, जिसके वीडियो का निर्देशन कुमार सौरव सिन्हा ने ब्रिटिश और भारतीय अभिनेताओं के साथ मिलकर लंदन में शूट किया है।

कुमार सौरव सिन्हा, हॉलीवुड में विभिन्न बड़ी फिल्म परियोजनाओं और अमेरिकी ब्रॉडकास्टिंग कंपनी (एबीसी),डिज्नी जैसी कुछ बड़ी फिल्मों की परियोजनाओं पर काम करने के बाद, अब भोजपुरी फिल्म उद्योग में क्रांति लाने के लिए पूरी तरह तैयार है।

वे पवन सिंह, रितेश पांडे जैसे भोजपुरी सुपरस्टार्स के साथ भी काम कर चुके हैं। कुछ महीने पहले वे भोजपुरी का सबसे महंगा संगीत वीडियो दुबई में शूट किया था और अब छठ पूजा के अवसर पर एक इंटरनेशनल गीत लेकर आ रहे हैं जो यशी फिल्म्स से 15 नवम्बर को लंदन में रिलीज होगी। इसमें संगीत गोविंद ओझा और पंकज तिवारी का है। गीत में अन्वेषा की मधुर आवाज है जो गोलमाल रिटर्न्स, प्रेम रतन धन पायो जैसी बड़ी प्रोजेक्ट के लिए जानी जाती है।

इस वीडियो में ब्रिटिश अभिनेता सैमी जोनास हेनी नज़र आने वाले हैं, जो विभिन्न हाई-एंड बजट फिल्मों जैसे वेलकम टू न्यूयॉर्क, हाई एंड यारियां में काम कर चुके हैं। परिणीति चोपड़ा (2021) अभिनीत उनकी आगामी नेटफ्लिक्स फिल्म ‘द गर्ल ऑन द ट्रेन’ है। वहीं, फीमेल लीड में सोनम नानवानी होंगी, जिन्होंने कई प्रतिष्ठित बॉलीवुड और पंजाबी फिल्मों जैसे अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म “गोल्ड”, अर्जुन कपूर और परिणीति चोपड़ा अभिनीत फिल्म “नमस्ते इंग्लैंड” और “खिदो खुंडी” में रणजीत बावा और मैंडी तखर के साथ काम कर चुकी हैं। इस गाने में दिग्गज अभिनेता पद्म सिंह भी होंगे, जो खाकी और लीजेंड ऑफ भगत सिंह में नज़र आ चुके हैं।

इस बार, कुमार सौरव सिन्हा ने अब तक का सबसे महंगा भक्ति संगीत वीडियो का निर्देशन किया है। छठ पर्व बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश और नेपाल के मधेश क्षेत्र में व्यापक रूप से मनाया जाता है। छठ पूजा सूर्य देव और षष्ठी देवी (छठी मैया) की पूजा है। इस बारे में उन्होंने बताया कि छठ पूजा हमें अपनी जड़ों से जोड़ती है। यह सबसे अधिक पर्यावरण के अनुकूल धार्मिक त्योहारों में से एक है जो प्रकृति संरक्षण्ड का संदेश फैलाता है। छठ पूजा के दिन, सभी भक्त जाति, रंग या सामाजिक स्थिति के किसी भी भेद के बिना, गंगा नदी के तट पर इकट्ठा होते हैं और सूर्य देव को प्रसाद अर्पित करते हैं।

 

उन्होंने कहा कि “लंदन में छठ पूजा यह दिखाने का प्रयास है कि इंग्लैंड में रहने वाले भारतीय इसे कैसे मनाते हैं। इसमें दिखाया गया है कि कैसे एक ब्रिटिश पति अपनी भारतीय पत्नी की संस्कृति को अपनाता है और छठ पूजा मनाता है। यह वीडियो विभिन्न संस्कृतियों को एकजुट करेगा और दोनों देशों को करीब लाएगा ”। वहीं इसको लेकर यशी फिल्म्स के निर्माता अभय सिन्हा ने कहा, “हम हमेशा ऐसा कंटेंट बनाने की कोशिश कर रहे हैं जो एक सामाजिक संदेश लाए।”


Director Kumar Saurav Sinha has teamed up with British and Indian actors to shoot Chhath Puja music video in London

0 comments
Director Kumar Saurav Sinha has teamed up with British and Indian actors to shoot Chhath Puja music video in London

लंदन में छठ पूजा

ब्रिटिश और इंडियन कलाकरों को लेकर बना छठ गीत, 15 नवम्बर को यशी फिल्म्स से रिलीज़ होगा

लोक आस्था का महापर्व छठ की महिमा इस बार सात समुंदर पार ब्रिटेन तक पहुंच गई है। इसलिए इस बार छठी मईया को समर्पित निर्देशक सह यशी फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड के कंटेंट हेड कुमार सौरव सिन्हा का आने वाला नया छठ गीत इस साल का सबसे महंगा गाना होगा, जिसके वीडियो का निर्देशन कुमार सौरव सिन्हा ने ब्रिटिश और भारतीय अभिनेताओं के साथ मिलकर लंदन में शूट किया है।

कुमार सौरव सिन्हा, हॉलीवुड में विभिन्न बड़ी फिल्म परियोजनाओं और अमेरिकी ब्रॉडकास्टिंग कंपनी (एबीसी),डिज्नी जैसी कुछ बड़ी फिल्मों की परियोजनाओं पर काम करने के बाद, अब भोजपुरी फिल्म उद्योग में क्रांति लाने के लिए पूरी तरह तैयार है।

वे पवन सिंह, रितेश पांडे जैसे भोजपुरी सुपरस्टार्स के साथ भी काम कर चुके हैं। कुछ महीने पहले वे भोजपुरी का सबसे महंगा संगीत वीडियो दुबई में शूट किया था और अब छठ पूजा के अवसर पर एक इंटरनेशनल गीत लेकर आ रहे हैं जो यशी फिल्म्स से 15 नवम्बर को लंदन में रिलीज होगी। इसमें संगीत गोविंद ओझा और पंकज तिवारी का है। गीत में अन्वेषा की मधुर आवाज है जो गोलमाल रिटर्न्स, प्रेम रतन धन पायो जैसी बड़ी प्रोजेक्ट के लिए जानी जाती है।

इस वीडियो में ब्रिटिश अभिनेता सैमी जोनास हेनी नज़र आने वाले हैं, जो विभिन्न हाई-एंड बजट फिल्मों जैसे वेलकम टू न्यूयॉर्क, हाई एंड यारियां में काम कर चुके हैं। परिणीति चोपड़ा (2021) अभिनीत उनकी आगामी नेटफ्लिक्स फिल्म ‘द गर्ल ऑन द ट्रेन’ है। वहीं, फीमेल लीड में सोनम नानवानी होंगी, जिन्होंने कई प्रतिष्ठित बॉलीवुड और पंजाबी फिल्मों जैसे अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म “गोल्ड”, अर्जुन कपूर और परिणीति चोपड़ा अभिनीत फिल्म “नमस्ते इंग्लैंड” और “खिदो खुंडी” में रणजीत बावा और मैंडी तखर के साथ काम कर चुकी हैं। इस गाने में दिग्गज अभिनेता पद्म सिंह भी होंगे, जो खाकी और लीजेंड ऑफ भगत सिंह में नज़र आ चुके हैं।

इस बार, कुमार सौरव सिन्हा ने अब तक का सबसे महंगा भक्ति संगीत वीडियो का निर्देशन किया है। छठ पर्व बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश और नेपाल के मधेश क्षेत्र में व्यापक रूप से मनाया जाता है। छठ पूजा सूर्य देव और षष्ठी देवी (छठी मैया) की पूजा है। इस बारे में उन्होंने बताया कि छठ पूजा हमें अपनी जड़ों से जोड़ती है। यह सबसे अधिक पर्यावरण के अनुकूल धार्मिक त्योहारों में से एक है जो प्रकृति संरक्षण्ड का संदेश फैलाता है। छठ पूजा के दिन, सभी भक्त जाति, रंग या सामाजिक स्थिति के किसी भी भेद के बिना, गंगा नदी के तट पर इकट्ठा होते हैं और सूर्य देव को प्रसाद अर्पित करते हैं।

 

उन्होंने कहा कि “लंदन में छठ पूजा यह दिखाने का प्रयास है कि इंग्लैंड में रहने वाले भारतीय इसे कैसे मनाते हैं। इसमें दिखाया गया है कि कैसे एक ब्रिटिश पति अपनी भारतीय पत्नी की संस्कृति को अपनाता है और छठ पूजा मनाता है। यह वीडियो विभिन्न संस्कृतियों को एकजुट करेगा और दोनों देशों को करीब लाएगा ”। वहीं इसको लेकर यशी फिल्म्स के निर्माता अभय सिन्हा ने कहा, “हम हमेशा ऐसा कंटेंट बनाने की कोशिश कर रहे हैं जो एक सामाजिक संदेश लाए।”


Prabha Khaitan Foundation unveils book Dear Mama by Mohini Kent – Cherie Blair launches book on collection of intimate letters to their mothers by eminent personalities

0 comments
Prabha Khaitan Foundation unveils book Dear Mama by Mohini Kent – Cherie Blair launches book on collection of intimate letters to their mothers by eminent personalities

प्रभा खेतान फाउंडेशन के ऑनलाइन कार्यक्रम में ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर की पत्नी चेरी ब्लेयर ने मोहिनी केंट द्वारा लिखी पुस्तक “प्रिय मां” को किया लॉन्च

12 नवंबर, 2020, कोलकाता / लंदन: प्रभा खेतान फाउंडेशन, कोलकाता की तरफ से स्वाति अग्रवाल के तत्वाधान में आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में जीवन में स्नेहमयी माताओं के प्यार एवं योगदान पर लिखी पुस्तक “प्रिय मां” को ऑनलाइन लॉन्च किया गया। इस पुस्तक में आध्यात्मिक गुरुओं, ब्रिटिश हाउस ऑफ लॉर्ड्स के सदस्यों, राजनीतिक नेता, शाही परिवारों के सदस्य, अभिनेता, उद्यमी, पत्रकार, फोटोग्राफर और डॉक्टरों ने मां के प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त किया है।

श्री सीमेंट द्वारा प्रस्तुत ऑनलाइन कार्यक्रम ‘किताब’ में ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर की पत्नी चेरी ब्लेयर, ब्रिटिश बैरिस्टर, लेखक और महिलाओं के अधिकार के लिए काम करनेवाली एक सामाजित कार्यकर्ता ने इस पुस्तक को औपचारिक रूप से ऑनलाइन लॉन्च किया।

इस मौके पर विश्वभर से सैकड़ों आमंत्रित विशिष्ठ लोग इस कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरानचेरी ब्लेयर नेइस पुस्तक की लेखिका और लिली अगेंस्ट नामक एक धर्मार्थ संगठन जो मानव और बाल तस्करी के रुप में व्यापार के खिलाफ काम करता है, इसकी संस्थापक चेयरपर्सन मोहिनी केंट के साथ घंटों अपने विचारों का आदान-प्रदान किया।

इस पुस्तक में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना संदेश लिखा। इसके अलावा तिब्बती धर्मगुरू महामहिम दलाई लामा, चेरी ब्लेयर, सर क्लिफ रिचर्ड, जीपी हिंदुजा, श्री एम, किरण मजूमदार शॉ, अरशद वारसी, डॉ. करण सिंह, सर मार्क टली, शर्मिला टैगोर, राकेश ओमप्रकाश मेहरा, संदीप भूतोरिया, लॉर्ड पारेख, केपी सिंह और अन्य प्रतिष्ठित इन हस्तियों के साथ-साथ आम नागरिकों ने अपनी माताओं को समर्पित पत्र लिखकर इस पुस्तक मां के योगदान को व्यक्त किया है, इसके साथ इस पुस्तक के लिए विशेष रूप से मोहिनी केंट की व्यक्तिगत सराहना की है।

‘प्रभा खेतान फाउंडेशन के ट्रस्टी संदीप भूतोरिया ने कहा: हमारी इस संस्था द्वारा ‘प्रिय मां’ पुस्तक के अनावरण की मेजबानी करना हमारे लिए एक बड़ा सम्मान है, जो अपनीमांके लिए भेजे गये पत्रों का एक शानदार संग्रह है। यह पुस्तक अपनी मां के प्रति प्यार, भावना, करुणा और प्रेरणा की गहरी भावनाओं को उजागर करता है। लंदन में एक कार्यक्रम में मार्च 2020 महीने में ही इसे औपचारिक तौर पर लॉन्च करने की बात थी, लेकिन कोविड महामारी के कारण इसे स्थगित करना पड़ा। इस पुस्तक के लिए मेरी स्वर्गीय मां को पत्र लिखना मेरे लिए व्यक्तिगत तौर पर बहुत ही मार्मिक अनुभव था।

मां बच्चों की पहली गुरु और मार्गदर्शक होती है। महात्मा गांधी, आइंस्टीन, अब्राहम लिंकन, बुद्ध और अन्य पर अपनी माताओं का कर्ज है। यहां तक कि एचआरएच प्रिंस चार्ल्स ने भी महारानी को उनके मैस्टीज डायमंड जयंती समारोह में उन्होंने ‘मम्मी’कहकर संबोधित किया। इनके बीचइस पुस्तक में मौजूद कुछ बेटियों के पत्र में माताओं द्वारा उन्हें धोखा देने का दर्द छिपा है। कुछ माताओंने अपनी बेटियों को दास के रूप में बेच दिया, इस पुस्तक में उन लड़कियों द्वारा भेजे गये पत्र में दिल टूटने, मन में हुए गहरे जख्म, हानि और विश्वासघात का दर्द बेटियों ने बयां किया है।

मोहिनी केंट ने अपनी चैरिटी संस्था, लिली अगेंस्ट ह्यूमन ट्रैफिकिंग की सहायता के लिए यह पुस्तक लिखी है। यह पुस्तक फ्लिपकार्ट और अमेज़न इंडिया पर ऑनलाइन उपलब्ध है और इससे होनेवाली आमदनी का पूरा हिस्सा मानव तस्करी के खिलाफ काम कर रही इस संस्था को दिया जायेगा।

चेरी ब्लेयर एक मानवाधिकार वकील, एशियन यूनिवर्सिटी फॉर वुमेन की चांसलर हैं। इसके अलावा वह लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स की गवर्नर और ओमनिया रणनीति एलएलपी की एक संस्थापक सदस्य भी रह चुकी हैं, जो महिलाओं की संस्था चेरी ब्लेयर फाउंडेशन द्वारा विकासशील देशों में महिला उद्यमियों का समर्थन करती है।

लेडी मोहिनी केंट नून एक मशहूर लेखक, फिल्म निर्माता, चैरिटी कार्यकर्ता और पत्रकार हैं। वह लिली अगेंस्ट ह्यूमन ट्रैफिकिंग की फाउंडर चेयरपर्सन हैं, और अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के ब्रिटेन में वैश्विक दूत है। वह कई पुस्तकों की लेखक हैं, जिनमें ब्लैक ताज, एक उपन्यास और नागार्जुन: द सेकेंड बुद्धा शामिल हैं। उन्होंने फीचर फिल्मों, वृत्तचित्रों को लिखा और निर्देशित किया है, और सर बेन किंग्सले के साथ काम किया है। उनके मंच नाटकों में रूमी: द अनविल द सन शामिल हैं। वह यूके में आध्यात्मिक शिक्षण पर्यटन कार्यक्रम का भी आयोजित करती है।

    

पुस्तक प्रिय मां के कुछ चुनिंदे अंश :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: “मां प्रेरणा का सदा-समृद्ध वसंत है और सभी चुनौतियों को पार करने की हमारी ताकत है।”

एचएच दलाई लामा: “मेरी मां मेरी करुणा की पहली शिक्षिका थीं। अपनी माताओं से स्नेह प्राप्त करनेवाले बच्चे ही अपने वयस्क जीवन में बहुत अधिक आंतरिक शांति रखते हैं।”

चेरी ब्लेयर: “वकालत के बाद जब मुझे 1976 में बार संगठन में बुलाया गया, तो आप मेरी उपलब्धि का हिस्सा बनने वाले एकमात्र माता-पिता थे। मैं चाहतीथी कि मेरी इस उपलब्धि को आप स्वीकार करें।”

सर क्लिफ रिचर्ड: “मृत्यु कभी उचित नहीं होती। आपने हमें जीवन दिया, मुझे, डोना, जैकी और फिर जोन को आपके लिए जिंदगी नसीब हुई, लेकिन मौत ने आपको हमसे दूर कर दिया हालांकि वह हमारे मन में कैद आपकी यादों को हमसे नहीं छीन सका।”

जीपी हिंदुजा: “यह कहा जाता है कि भगवान ने माताओं को बनाया क्योंकि वह हर जगह नहीं हो सकते थे।”

शर्मिला टैगोर: “मौत तुम्हें हमसे दूर ले गई। इसके पहले मैं आपको कभी नहीं बता सकी कि मैंने चुटकुलों के जरिये आपकी पाक कला और आपकी प्रतिभा की कितनी सराहना की।”

योगी श्री एम: “मैं मेरी माँ से क्षमा मांगता हूं जब उसका प्यारा बेटा हिमालय भाग गया। जब वर्षों बाद जब मैं एक योगी बनकर वापस आया, तो मेरी मां ने मेरा स्वागत किया। केवल एक मां ही ऐसा कर सकती है।

‘प्रिय मां’ पुस्तक की बिक्री से होनेवाली आमदनी बालिकाओं की मदद के लिए खर्च की जाएगी।”


« Previous Entries